लोन क्या है और लोन कितने प्रकार के होते हैं?

आपने लोगों को अलग-अलग ज़रूरतों के लिए लोन लेते हुए देखा होगा. जैसे कुछ लोग लाखों रुपयों का लोन लेते हैं घर बनाने के लिए या विदेश में पढ़ने जाने के लिए. कुछ लोग कुछ हज़ार का लोग लेते हैं बाइक खरीदने के लिए या घर की मरम्मत करवाने के लिए. आप लोन की मदद से वे खर्चे उठा सकते हैं जिसके लिए आपके पास पैसे नहीं हैं. लोन की वजह से आपको ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सालों तक बचत करने का इंतज़ार नहीं करना पड़ता है. इसका एक बड़ा फायदा यह भी है कि आप इमरजेंसी अथवा आपात की स्थिति में लोन लेकर खर्चे उठा सकते हैं. जैसे मेडिकल खर्चे, गाड़ी खराब हो जाना, आदि.

इस ब्लॉग में हम विस्तार में समझेंगे कि लोन क्या है, लोन कितने प्रकार का होता है और इस विषय से जुड़ी अन्य ज़रूरी बातें. वैसे अगर आप को ₹5 लाख तक का इंस्टेंट लोन चाहिए, तो आप 5 मिनट के अंदर यहाँ क्लिक करके उसकी प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं. आप बिना कोई कागज़ाती कार्रवाई किए ऑनलाइन लोन ले सकते हैं और आसान किश्तों में पैसे चुका सकते हैं. ज़ाइप से लोन लेने पर 24 घंटे के अंदर बैंक अकाउंट में पैसे आ जाते हैं.

अवधि लोन क्या है?

अवधि लोन का अर्थ है एक निश्चित समय के लिए लोन लेना और उतनी अवधि में लोन राशि का ब्याज के साथ भुगतान करना. जब आप लोन लेते हैं तो आपको बैंक या एनबीएफसी लोन चुकाने के लिए अलग-अलग अवधि के विकल्प देती हैं. ये विकल्प कुछ महीनों से लेकर कुछ सालों तक के हो सकते हैं. ये अवधि के विकल्प कुछ बातों पर निर्भर करते हैं जैसे लोन का प्रकार, लोन कंपनी की क्रेडिट पॉलिसी, लोन की राशि, आदि. आप अपनी सुविधा के अनुसार पुनर्भुगतान अवधि चुन सकते हैं.

अवधि लोन के प्रकार

हर तरह का लोन अलग-अलग परिस्थितियों और ज़रूरतों को पूरा करता है. लोन राशि, अवधि और अन्य चीज़ों के आधार पर ब्याज दर निर्धारित होता है और पुनर्भुगतान अवधि के अलग-अलग विकल्प दिए जाते हैं.

आप किस तरह का लोन लेते हैं यह इन सब बातों पर निर्भर करता है – आपकी ज़रूरतें, वित्तीय स्थिति, लोन का उद्देश्य और पैसा चुका पाने की क्षमता. अगर आप सोच रहे हैं कि अवधि लोन कितने प्रकार के होते हैं तो उसका जवाब है तीन – अल्पकालिक लोन (शॉर्ट अवधि लोन), मध्यम अवधि लोन (इंटरमीडिएट अवधि लोन) और लंबी अवधि लोन (लॉन्ग अवधि लोन).

1. अल्पकालिक लोन

इसके अंदर जो लोन आते हैं उनकी अवधि अक्सर कुछ महीनों तक की होती है. यह किसी भी उद्देश्य से लिए जा सकते हैं जैसे घर खर्च, पैसों की कमी, आदि.

2. मध्यम अवधि के लोन 

इसमें जो लोन आते हैं उनकी अवधि एक से पांच साल के बीच की होती है. इस में बड़ी राशि के पर्सनल लोन, कार लोन, एजुकेशन लोन, आदि आते हैं,

3. लंबी अवधि लोन 

जिन लोन की पुनर्भुगतान अवधि 5 सालों से ज़्यादा होती है, वे इस केटेगरी में आते हैं. जैसे होम लोन, व्यवसाय के लिए लोन, आदि.

भारत में लोन के प्रकार

लोग अपनी ज़रूरतों के हिसाब से लोन चुनते हैं. जैसे घर खरीदना, उच्च शिक्षा प्राप्त करना, बिज़नेस शुरू करना, आदि. लोन के मकसद के अनुसार उसकी क्रेडिट पॉलिसी बनाई जाती है जिसमें लोन लिमिट, ब्याज दर, रीपेमेंट अवधि, आदि तय होती है.

कोई भी लोन लेने से पहले सारे पहलुओं को समझना ज़रूरी है. आपको अलग-अलग बैंक और एनबीएफसी के लोन ऑफर की तुलना करनी चाहिए, यह हिसाब लगाना चाहिए कि आप हर महीने कितना इएमआई आसानी से चुका पाएंगे और यह देखना चाहिए कि आपकी ज़रूरत के हिसाब से कौनसा लोन आपके लिए अच्छा रहेगा. ऐसी कई सारी बातों को ध्यान में रखने के बाद ही लोन प्रक्रिया शुरू करनी चाहिए. अब हम देखेंगे कि लोन कितने प्रकार के होते हैं –

सुरक्षित लोन

सुरक्षित लोन एक प्रकार कर्ज है जिस में लोन लेने के लिए कुछ गिरवी रखना पड़ता है. जैसे घर, ज़मीन, गहने, आदि. अगर आप लोन नहीं चुकाते हैं तो लोन कंपनी के पास वह सामान ज़ब्त करने का अधिकार होता है. चूंकि इस तरह के लोन में बैंक या एनबीएफसी को कम जोखिम उठाना पड़ता है, इसकी ब्याज दर बाकी लोन की तुलना में कम होती है. आइये सुरक्षित लोन के कुछ उदाहरण देखते हैं –

गोल्ड लोन

स्वर्ण ऋण अथवा गोल्ड लोन में आप सोने के आभूषण, सोने के सिक्के, आदि गिरवी रखकर लोन ले सकते हैं. चूँकि यह एक प्रकार का सुरक्षित लोन है, इसका ब्याज दर आम तौर पर असुरक्षित लोन से कम होता है. आप डिजिटल गोल्ड को भी गिरवी रखकर गोल्ड लोन ले सकते हैं. डिजिटल गोल्ड के बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें।

प्रतिभूतियों पर लोन (एलएएस)

इसे सिक्योरिटी लोन कहा जाता है. इसमें आप शेयर, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड, आदि प्रतिभूतियों को गिरवी रखकर लोन ले सकते हैं. आपके लोन न चुकाने पर लोन कंपनियां इन्हें बेचकर वसूली कर सकती हैं. चूँकि यह सिक्योर लोन है, यह कम क्रेडिट स्कोर पर भी आसानी से मिल सकता है.

संपत्ति पर लोन (एलएपी)

इसे अंग्रेजी में लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी कहा जाता है. इसमें आप अपना घर, प्लॉट, अपार्टमेंट, दुकान, फैक्ट्री, आदि गिरवी रखकर लोन ले सकते हैं. आमतौर पर बैंक और एनबीएफसी से आपकी संपत्ति के मूल्य की 70-80% तक की राशि मिल सकती है. इस में लोन न चुका पाने पर संपत्ति ज़ब्त होने का जोखिम रहता है.

होम लोन

होम लोन से आप फ्लैट, प्लॉट, आदि जैसी आवासीय संपत्ति अर्थात रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी खरीद सकते हैं. होम लोन के पैसों से आप घर का निर्माण या नवीनीकरण भी करवा सकते हैं. इसकी मदद से आप पर्याप्त पैसे न होने के बावजूद भी अपने सपनों का घर हासिल कर सकते हैं. यह लेने के लिए अक्सर ज़मीन को गिरवी रखा जाता है.

व्यवसाय लोन

व्यवसाय लोन या बिज़नेस लोन व्यवसायों को वित्तीय रूप से मदद करने के लिए दिया जाता है. व्यापारी यह लोन राशि से नया व्यवसाय शुरू कर सकते हैं, पहले से चल रहे व्यवसाय का विस्तार कर सकते हैं, संपत्ति या उपकरण खरीद सकते हैं, आदि. आप व्यवसाय अर्थात कॉर्पोरेट लोन की मदद से अपने बिज़नेस को सफल बना सकते हैं और अपने लक्ष्य पूरे कर सकते हैं.

असुरक्षित लोन

असुरक्षित लोन वह होता है जो किसी संपत्ति को गिरवी रखे बिना दिया जाता है. यह तब ही दिया जाता है जब बैंक या एनबीएफसी को यह भरोसा होता है कि उधार लेने वाला भुगतान करने में सक्षम है. यह किसी भी सिक्योर लोन की तुलना में तेज़ी से मिल जाता है क्योंकि इसमें कागज़ी कार्रवाई कम होती है. असुरक्षित लोन का ब्याज दर आमतौर पर सिक्योर्ड ऋण की तुलना में ज़्यादा होता है क्योंकि इसे देने में लोन कंपनी ज़्यादा जोखिम उठा रही होती है.

पर्सनल लोन

यह एक प्रकार का लोन होता है जो आप किसी भी व्यक्तिगत काम के लिए ले सकते हैं. जैसे शादी या जन्मदिन जैसे अवसरों पर खर्च, घर की मरम्मत, किसी यात्रा पर जाने का खर्च, चिकित्सा से संबंधित खर्चे, आदि. अगर आपको ज़ाइप से 5 मिनट में 5 लाख तक का पर्सनल लोन चाहिए तो तुरंत यहाँ क्लिक करें. आप इन पैसों को किसी भी ज़रूरत पर खर्च कर सकते हैं.

वाहन लोन

वाहन लोन अर्थात व्हीकल लोन से आप अपने पसंद की बाइक, कार, स्कूटर या कोई अन्य तरह का वाहन खरीद सकते हैं. आप नए और प्रयोग की गई गाड़ियां, दोनों के लिए वाहन लोन ले सकते हैं. वाहन लोन सिक्योर और अनसिक्योर दोनों तरह के होते हैं. आपको इसके लोन की मासिक किश्त उतनी ही रखनी चाहिए जो आप आसानी से चुका सकें.

पर्सनल लोन कितने प्रकार के होते हैं?

पर्सनल लोन की एक खासियत यह होती है कि यह अन्य लोन की तुलना में जल्दी और आसानी से मिल जाते हैं. आप इसे बैंक या एनबीएफसी की एप के द्वारा भी ले सकते हैं. अगर आप ज़ाइप से इंस्टेंट लोन लेते हैं तो आपको कोई डॉक्यूमेंट देने की ज़रूरत नहीं है. आपको आवेदन प्रक्रिया पूरी करते ही 60 सेकंड से कम में लोन अप्रूवल मिल जाएगा. आइये देखते हैं अलग-अलग तरह के पर्सनल लोन –

एजुकेशन पर्सनल लोन

अगर आपको शिक्षा प्राप्त करने के लिए पैसों की आवश्यकता है तो शिक्षा पर्सनल लोन आपके लिए बेहतरीन विकल्प है. आप इस लोन से मिली राशि की मदद से यह सारी चीज़ों का भुगतान कर सकते हैं – रहने का खर्च, स्टेशनरी खर्च, ट्यूशन फीस, किताबें खरीदना, आवागमन खर्च, आदि.

होम रेनोवेशन पर्सनल लोन

अगर आपको घर में कुछ काम करवाना है और उसके लिए पैसे कम पड़ रहे हैं तो घर नवीकरण के लिए पर्सनल लोन ले सकते हैं. आप पर्सनल लोन की राशि से मरम्मत करवा सकते हैं, नया फर्नीचर खरीद सकते हैं, नई टाइल्स लगवा सकते हैं, आदि. मकान से जुड़े किसी अप्रत्याशित खर्चे के लिए भी पर्सनल लोन लेना अच्छा विकल्प है क्योंकि यह आसानी और तेज़ी से मिल जाता है.

यात्रा पर्सनल लोन

अगर आपको परिवार या दोस्तों के साथ यात्रा पर जाना है और पैसों की तंगी है तो ट्रेवल पर्सनल लोन आपकी इस समस्या को पलक झपकते सुलझा सकता है. आप इंस्टेंट लोन की मदद से पैसे जुटाकर टिकट, आवास, आदि के खर्चे उठा सकते हैं. यात्रा से लौटने के बाद आसान किश्तों में पर्सनल लोन का भुगतान कर सकते हैं.

वेडिंग पर्सनल लोन

किसी के लिए भी शादी उनकी ज़िंदगी के सबसे बड़े अवसरों में से एक होता है. अगर आपको अपने सपनों की शादी करने के लिए कुछ पैसे चाहिए तो पर्सनल लोन से आपकी बढ़िया मदद हो सकती है. अगर आप ज़ाइप में लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो 24 घंटे से कम में आपके खाते में पैसे आ जाएंगे. फिर आप उन पैसों से होटल, कैटरिंग, गिफ्ट जैसे खर्चे उठा सकते हैं.

मेडिकल पर्सनल लोन

अगर आपको चिकित्सा से संबंधित कोई प्रत्याशित या अप्रत्याशित खर्चा उठाना है तो पर्सनल लोन पैसे जुटाने का आसान तरीका है. ज़ाइप जैसी कई लोन एप इंस्टेंट अप्रूवल की सुविधा देती हैं. यह सुनिश्चित करता है कि आपके पास पैसे आने में देरी न हो और आप को पैसों के लिए परेशान न होना पड़े.

निष्कर्ष:

अब आप अच्छे से समझ गए हैं कि लोन क्या है और लोन कितने प्रकार का होता है. आपको हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि लोन लेने से पहले अच्छे से अनुसंधान (रिसर्च) करें. सिर्फ उन्हीं लोन एप का प्रयोग करें जिनके रेटिंग और रिव्यू अच्छे हैं. आपकी किश्त कभी भी उतनी नहीं होनी चाहिए कि जब भुगतान का समय आए तो पसीने छूट जाएं. समय पर लोन नहीं भरने पर क्रेडिट स्कोर गिर जाता है और भविष्य में लोन मिलना मुश्किल हो जाता है. अगर आपकी सैलरी ₹15000 या उससे ज़्यादा है तो तुरंत ज़ाइप में आवेदन दें और 5 मिनट में ₹5 लाख तक का लोन पाएं.

Frequently Asked Question

आधार कार्ड पर कितना लोन मिल सकता है?

आधार कार्ड पर लोन की अधिकतम राशि लोन कंपनी की क्रेडिट पॉलिसी और आपके क्रेडिट इतिहास पर निर्भर करती है. ज़ाइप एप से आपको पांच लाख तक का आधार कार्ड लोन मिल सकता है.

क्या भारत में छात्र को पर्सनल लोन मिल सकता है?

हर लोन कंपनी का अपना एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया अर्थात योग्यता शर्तें होती हैं जैसे उम्र, न्यूनतम सैलरी, डॉक्यूमेंट, आदि. अगर कोई छात्र वे शर्तें पूरी करता है तो उसे पर्सनल लोन मिल सकता है.

सबसे अच्छा लोन कौन सा है?

हर लोन अलग-अलग ज़रूरतों के हिसाब से होता है. जैसे अगर आपको घर लेना है तो होम लोन आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है. अगर आपको आपात स्थिति के लिए पैसे चाहिए तो इंस्टेंट लोन आपके सबसे ज़्यादा काम आ सकता है.

बिना ब्याज वाला कौन सा लोन है?

यह वे लोन होते हैं जिन पर कोई ब्याज नहीं लगता. ऐसे लोन सरकारी और गैर सरकारी संगठनों के द्वारा लोगों और समाज के हित के लिए दिए जाते हैं.

लोन नहीं चुकाने पर क्या होता है?

लोन नहीं चुकाने पर आपके लिए कई समस्याएं खड़ी हो सकती है. लोन कंपनी आपके ऊपर कानूनी कार्रवाई कर सकती है, आपका क्रेडिट स्कोर गिर जाएगा जिससे भविष्य में लोन लेना मुश्किल हो जाएगा और अगर आपने सुरक्षित लोन लिया है तो आपके द्वारा गिरवी रखी गई संपत्ति ज़ब्त हो जाएगी.

दुकान के लिए लोन कहाँ से मिलेगा?

आप दुकान के लिए किसी बैंक या एनबीएफसी से पर्सनल लोन या व्यवसाय लोन ले सकते हैं. लोन लेने से पहले आपको उनकी ऋण की शर्तें और पात्रता मापदंड (Eligibility criteria) पढ़ लेने चाहिए.